-->

Consult With Expert Doctor From Home

Pitta Ki Pathri Ka Desi Ilaj In Hindi - पित्त की पथरी का इलाज

 नमस्कार दोस्तो आज हम आप को पित्त की पथरी और pitta ki pathri ka desi ilaj in hindi  के बारे मै जानकारी देगे और एससे हम आप को स्वस्थ बेनीएग्रो Pathri Ke छोटा पत्थर होता है और वो मुस्किल करता है हम आपको health बेनीएगे

Pitta Ki Pathri Ka Desi Ilaj In Hindi - पित्त की पथरी का इलाज

पित्त की पथरी

    छोटे पत्थर होते हैं जो पित्ताशय की थैली के भीतर आकार लेते हैं।  पित्ताशय की थैली यकृत के नीचे होती है।  पित्ताशय की पथरी अक्सर बहुत दर्दनाक होती है।  यदि इसका समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो इससे छुटकारा पाने के लिए एएन ऑपरेशन की भी आवश्यकता होती है।  आपको यह बताने की अनुमति है कि एक बार जब स्टेरोल पित्ताशय में बसना शुरू कर देता है या कठोर हो जाता है, तो हमें नियमित रूप से पथरी की शिकायत रहती है।  ऐसी स्थिति में, रोगी को अकारण दर्द का सामना करना पड़ता है और उस तरफ भोजन पचाने में समस्या होती है।

    पित्त की पथरी का इलाज


    लीवर और गॉल ब्लैडर के बीच पित्त नलिका नामक एक छोटी नली होती है जिसे पित्त पित्ताशय में जाने के लिए उपयोग करता है।  जब भोजन किसी व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करता है, तो यह बुलबुला पित्त को नेबुलाइज़र की तरह खींचता है और इसे छोटी आंत के ऊपरी हिस्से में भेजता है, जिससे पाचन होता है।

    पित्त की पथरी क्या होती है {What is Gall Bladder Stone}

    पित्ताशय से संबंधित सबसे महत्वपूर्ण नकारात्मक पहलू, पाचन के लिए आवश्यक एंजाइमों को सुरक्षित करने वाले इन विटल्स, यह है कि एक पत्थर में तब्दील होने की वास्तव में उच्च संभावना है, जिसे पित्त पथरी कहा जाता है।  वास्तव में, एक बार जब वेसिका के भीतर तरल पदार्थ की मात्रा सूखने लगती है, तो इसमें मौजूद चीनी-नमक और वैकल्पिक सूक्ष्म पोषक तत्व छोटे पत्थर के टुकड़े बनाने के लिए जमा हो जाते हैं, जिन्हें पित्त पथरी कहा जाता है।


    आमतौर पर पित्ताशय में कोलेस्ट्रॉल, हेमटॉइडिन और पाचन द्रव लवण का संचय होता है।  पत्थरों के अस्सी p.c कोलेस्ट्रॉल से बने होते हैं।  कदम से कदम वे श्रमसाध्य हो जाते हैं और पित्ताशय के अंदर पत्थरों का आकार लेते हैं।  स्टेरॉयड अल्कोहल के पत्थर पीले-हरे रंग के होते हैं।  एक बार काले या भूरे रंग के पत्थरों को मूत्राशय के भीतर देखा जाता है, उन्हें वर्णक पत्थरों के रूप में जाना जाता है। 


    बार-बार एक घटक का एक समूह जिसे गैर-संयुग्मित हेमटोइडिन कहा जाता है, गॉल ब्लैडर में बनाना शुरू कर देता है, जिससे वर्णक पत्थरों की एक उलझन बन जाती है।  पित्ताशय की थैली में गड़बड़ी के कारण, पाचन द्रव आम तौर पर पित्त नली में जमा होता है, जिससे पीलिया भी हो सकता है।  यदि पित्त आंतों में जाने के बजाय डक्ट ग्रंथि में चला जाता है, तो यह पुरानी अग्नाशयशोथ नामक भारी समस्या का कारण बन सकता है। (पित्त की पथरी का इलाज) यदि उचित समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो इससे पित्ताशय में कैंसर भी हो सकता है। 


    पित्त के भीतर पित्त पथरी का निर्माण एक पुरानी दर्दनाक बीमारी हो सकती है।  पाचन द्रव की 2 शैलियाँ हैं जिन्हें स्टेरॉयड अल्कोहल और रंजक कहा जाता है।  हालांकि पथरी के अस्सी p.c कोलेस्ट्रॉल से बने होते हैं।  पाचन तरल यकृत में बनता है और पित्ताशय में रहता है।  यह पित्त वसा युक्त भोजन को पचाने में मदद करता है। (pitte ki pathri kay elaj in hindi) हालांकि एक बार पित्त में कोलेस्ट्रॉल और हेमटॉइडिन की मात्रा अधिक होने के कारण पथरी बन जाती है।

    Pitta Ki Pathri क्यों होता है (कारण  Gall Bladder Stone)

    पित्ताशय की पथरी के लिए कोई स्पष्टीकरण हालांकि परीक्षण नहीं किया गया है और यह किसी भी उम्र में हो सकता है।  कुछ कारक हैं जो पित्त पथरी की संभावना को बढ़ा सकते हैं जैसे कि-


    •  डायबिटीज (Diabetes)

    • दबाओ मेडिसिन का सेवन के कारण

    • मोटापा भी एक कारण है (Obesity)

    • गर्भधारण (Pregnancy)

    • लंबे समय से किसी बीमारी के ग्रस्त होने के कारण


    इसके सिवा और भी कारण होते हैं


     बेकरी का समान कहने से - बेकरी उत्पादों जैसे ब्रेड, मफिन, कुकीज़, कपकेक आदि का सेवन पित्ताशय के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है।  वास्तव में, ये खाद्य पदार्थ संतृप्त और ट्रांस वसा में बहुत अधिक होते हैं और इनमें से अधिकांश खाद्य पदार्थ ठीक आटे से बने होते हैं।  अगर आपको पित्ताशय से संबंधित कोई बीमारी है, तो इन उत्पादों का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।  इसके बजाय, आपको मोटे अनाजों से बने खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए।


      प्रोटीन का सेवन जादा मात्रा मै करने से - यदि आप अपने पित्ताशय को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो जानवरों में पाए जाने वाले प्रोटीन की मात्रा सीमित होनी चाहिए।  दरअसल, जानवरों में पाए जाने वाले प्रोटीन से कैल्शियम स्टोन और यूरिक एसिड स्टोन का खतरा बढ़ जाता है।  प्रोटीन के साथ-साथ मछली, मांस में कैल्शियम अधिक होता है, इसलिए इनका अधिक सेवन न करें।  अगर आपको पित्ताशय या गुर्दे की पथरी है, तो आपको इनका सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए।


    मीठी जादा कहने से - मीठी चीजों में रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट भरपूर मात्रा में पाया जाता है।  इसके अलावा, चीनी के अधिक सेवन से कोलेस्ट्रॉल गाढ़ा हो जाता है, जिससे दिल की बीमारियों के साथ-साथ पित्ताशय की पथरी होने का खतरा बढ़ जाता है।  इसलिए मीठी चीजों का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए।


     गर्भनिरोधक दवाएं - महिलाओं में पित्ताशय की समस्याएं भी पाई जाती हैं जो बड़ी मात्रा में या जल्दी गर्भनिरोधक दवाओं का उपयोग करती हैं।  इसलिए, महिलाओं को दवाओं के बजाय अन्य प्रकार के गर्भनिरोधक उपायों को अपनाना चाहिए, क्योंकि दवाओं का अधिक सेवन उन्हें पित्ताशय में पथरी का रोगी बना सकता है।  इसके अलावा ये दवाएं किडनी और लिवर पर भी बुरा असर डालती हैं।


     कॉफी जादा पीने से - यदि आप अधिक कॉफी का सेवन करते हैं, तो भी आपको पित्ताशय की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।  इसलिए, जिन लोगों को पहले से ही पित्ताशय में पथरी या कोई अन्य शिकायत है, उन्हें पूरी तरह से कॉफी पीना बंद कर देना चाहिए।  जो लोग स्वस्थ हैं वे प्रति दिन एक या दो कॉफ़ी पी सकते हैं, लेकिन इससे अधिक का सेवन नहीं करना चाहिए।


    पित्त की थैली में पथरी की दवा ( pitta ki pathri ka desi ilaj in hindi

    कभी-कभी पित्त की पथरी के भीतर गॉलस्टोन में कोई भी लक्षण नहीं होता है और आमतौर पर यह कुछ लक्षणों को दर्शाता है।  पित्ताशय की थैली में पथरी होने पर कुछ विशिष्ट लक्षण दिखाई देते हैं


    • एसिडिटी होना 

    • पेट मै काना नही पैना

    • महत्वपूर्ण भारीपन

    • उल्टी होना लक्षण देखा जाता है

    •  माइग्रेन की प्रशंसा करते हैं।


    • गाजर  का रस दिन मै  दो बार पीना चाइये और गाजर का रस पीने से पेट की पित्त पथरी से राहत मिलती है 

    • खाली पेट नींबू का रस दिन मै दो बार पीना है और एक हफ्ते मै pitta ki pathri से राहत मिलेगी 

    • शराब, बीड़ी और चये का सावन जादा करने से pit ki pathri ka ilaj मै मुस्किल हो सकती है

    • नाशपाती  pit ki pathri ka ilaj के ईलाज मै काफि मदत करती है इसे खूब खायें। नाशपाती का रस दिन मै दो बार पीने से pit ki pathri जल्दी राहत मिलती है

    • विटामिन सी का प्रयोग से शरीर की शक्ति और पाचन शक्ति भी मजबूत होती है। दिन मै एक से दो गोली ज़रुर काये इस से pathri से लाभ होगा। 

    •  Pathri के रुगी जादा से जादा हरी सब्जी और फल खाये और ईस से जादा शक्ति मिलीगी और Protin भी मिलीएगा

    • फ्राई aur ताली और तेल से बनी चीजे काम से काम खाये लाभ होगा Pathri से 




    Click to comment